ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail PDF Download Free by Anurag Pathak

पुस्तक नाम : ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail
Book Language : हिंदी | Hindi
पुस्तक का साइज़ : 2.3 MB
  • कुल पृष्ठ : 175

  • ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail PDF, ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail PDF Download, ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail Book, ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail Book Download Free, ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail | 12th Fail Book by   अनुराग पाठक / Anurag Pathak  

    ट्वेल्थ फेल सच्ची कहानी और वास्तविक घटनाओं पर आधारित एक ऐसा उपन्यास है जिसने हिंदी साहित्य जगत में बेस्ट सेलर होने के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. यह कहानी एक साधारण से दिखने वाले लडके के संघर्ष की ऐसी कहानी है जिसमें जीवन को अपनी तरह से गढ़ने के संघर्ष की पराकाष्ठा तो है ही , प्रेम की दीवानगी भी है. इस उपन्यास कस तानाबाना आईएएस की तैयारी करते युवाओं की बेहद दिलचस्प दुनिया है जिसमें असफलता और सफलता के बीच झूलता जीवन है.
    .इस कहानी का नायक चम्बल की घाटियों के छोटे से गाँव से निकला …

    नक़ल करके पास करवाने का ठेका लेने वाले स्कूलों से पढ़ा और एक पुस्तकालय में साफ़ सफाई करने की नौकरी करते हुए देश की सबसे बड़ी आईएएस की परीक्षा पास करके सबसे बड़ा अधिकारी बनने का सपना देखा. उसने अपने सपने का पीछा करने के लिए छोटे से छोटे काम किये और बड़े से बड़े दुःख झेले . ये ट्वेल्थ फेल की कहानी जितना हंसाती है उतना ही रुलाती भी है. सरल सहज और भावुक कर देने वाले इस उपन्यास को पढ़ना शुरू करेंगें तो आप खुद बी खुद इसमें डूबते चले जायेंगें.

    आप सबको पढ़नी चाहिए यह किताब 👍👍

    12th Fail PDF , 12th fail pdf download, twelfth fail pdf, 12th fail book pdf, 12th fail pdf free download, 12th fail novel in hindi pdf, twelfth fail book pdf download telegram, 12th fail epub, download free 12th fail epub , download free 12th fail pdf book, 12th fail pdf free, 12th fail book pdf google drive, 12th fail manoj sharma book pdf free download in hindi, 12th fail pdf download, 12th fail book pdf download in hindi

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 32 औसत: 4.4)

    इस पुस्तक के लेखक

    अनुराग पाठक / Anurag Pathak
    + लेखक की अन्य किताबें

    अनुराग पाठक, 5 अगस्त, 1976 को ग्वालियर में पैदा हुए थे। युवावस्था से ही उन्हें हिंदी साहित्य में गहरी दिलचस्पी थी और इस तरह उन्होंने एम.ए. और पीएचडी की पढ़ाई की। हिंदी में महारानी लक्ष्मीबाई आर्ट्स एंड कॉमर्स कॉलेज, ग्वालियर से साहित्य।

    उनकी पहली पुस्तक आज की आधुनिक दुनिया में सोशल मीडिया के प्रभाव पर आधारित लघु कथाओं का संकलन थी जिसे 'व्हाट्सएप पर क्रांति ’नाम दिया गया है, यह भारत में बहुत अच्छी तरह से प्राप्त हुआ और कई पुस्तक आलोचकों द्वारा इसकी प्रशंसा की गई।

    लेखन के क्षेत्र में अपने दूसरे उद्यम, '12th Fail/ट्वेल्थ फेल ’के साथ, अनुराग पाठक ने जीवनी शैली की ओर रुख किया और भारत के युवाओं को प्रेरित करने की उम्मीद की।

    अनुराग पाठक शादीशुदा हैं और फिलहाल अपने परिवार के साथ इंदौर में रहते हैं।

    9 COMMENTS

    1. सर्वप्रथम आपका बेहद शुक्रिया कि आपने एक ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार किया है, जहाँ पर ऐसी किताबें आपने उपलब्ध करा दी हैं जो ढूँढने से भी नहीं मिलती। वो भी फ्री में।
      क्योंकि काफी ऐसे लोग हैं जो पढ़ना तो चाहते हैं लेकिन उनके पास किताबें नहीं है और न ही इतनी किताबें खरीदने में सक्षम हैं।
      ये भी हम सभी लोग जानते हैं कि इसमें आपको कितना बड़ा रिस्क लेना पढ़ रहा है। फिर भी आप ये काम कर रहे हैं, ये तारीफ योग्य कदम है।
      बस ईश्वर से यही दुआ है कि हमारे एडमिन साहब हमेशा ही मुश्किलों से दूर रहे हैं।
      रही बात किताबों के रिक्वेस्ट कि तो ग्रुप में पहले ही कुछ किताबों की रिक्वेस्ट आयी है, अगर उपलब्ध हो सके तो आप उपलब्ध करा दें।
      बाकी जब आपके साथ जुड़े हैं तो धीरे धीरे सभी किताबें हम लोगों तक जरूर पहुंचेंगी। ये हम सभी को पक्का यकीन है।
      बस अपना ख्याल रखियेगा।
      धन्यवाद मित्र🌹🌹🌹

        • Ye aisi jagah h pdf lovers ke liye,
          Jaise mare hue ke liye jannat.

          Thnks a lot to the creator of this website.
          Wish u all the best.
          U are doing a very great job.

          Again thank you so much.

    2. यह किताब एक ऐसे अनुभवों की दास्तान है जो कि हर उस बच्चें की निगहबानी करता है जो सिविल की तैयारी करने के लिए जद्दोजहद करता है।
      कैसे कोई लड़का जो कि गरीब घर का है, पढ़ने में भी कुछ खास नहीं, 12वीं में विफलता भी मिलती है। फिर भी कुछ पा लेने का जुनून फर्श से अर्श तक पहुँचा देता है। ऐसे कई किस्से हैं जो कि पढ़ने के बाद खुद पर बीती हुई प्रतीत होती है।
      लॉज के वो पल जो हम एक साथ कुछ खट्टी मीठी यादों के साथ गुजारते हैं, उसमें प्यार की अठखेलियाँ भी खेलना।
      कुल मिलाकर नए तैयारी करने वाले बच्चों के लिए एक inspiration का काम करेगा।
      हमारी हार तब तक नहीं हो सकती जब तक कि हम खुद हार न मान लें।
      धन्यवाद अनुराग पाठक जी इतने खूबसूरत उपन्यास से रूबरू कराने के लिए।

    3. 🌟🌟🌟🌟🌟

    4. Thanks for sharing

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 32 औसत: 4.4)
    Copy link
    Powered by Social Snap
    %d bloggers like this: