महाभारत के पात्रों का आध्यात्मिक प्रतीकात्मक स्वरूप / Mahabharat Ke Patron Ka Adhyatmik Pratikatmak Swarup Download Free PDF

पुस्तक नाम : महाभारत के पात्रों का आध्यात्मिक प्रतीकात्मक स्वरूप / Mahabharat Ke Patron Ka Adhyatmik Pratikatmak Swarup
Book Language : हिंदी | Hindi
पुस्तक का साइज़ : 2.1 MB
  • कुल पृष्ठ : 114

  • रुकिए! Download करने के लिए आगे बढ़ने से पहले इसे जरूर पढ़ें ताकि आपको Download करने में कोई समस्या न हो
    ➡️ लिंक

    “महाभारत’ को पांचवां वेद माना गया है और ग्रंथ की भूमिका में इसे चारों वेदों से भी अधिक गरिमावान घोषित {किया गया है (1.1.272)। ऋषियों ने इसे पुराण और इतिहास दोनों कहा है। (1.1.17,19) {किन्तु कथा के लगभग सभी प्रमुख पात्रों की उत्पत्ति दैविक अथवा परामानवीय बतलाई गई है जिससे इंगित होता है कि कथा को आध्यात्मिक स्वरूप प्रदान {किया गया है। वस्तुत: हमारे प्राचीन वैदिक और पौराणिक साहित्य में मनुष्य के जीवन को ऊँचा उठाने के लिये , उसे आत्मनिष्ठ / सर्वनिष्ठ बनाने के लिए, कथाओं का स्वरूप इसी प्रकार का रचा गया है। इस हेतु ऋषियों ने कथाओं में पात्रों और घटनाओं को इतिहास, भूगोल, खगोल, अर्थशास्त्र, आयुविज्ञान, मनोविज्ञान आदि विभिन्न क्षेत्रों से लेकर उनका रूपान्तरण इस दॄष्टि से किया है कि कथा पाठक को आध्यात्मिक पथ पर आगे बढ़ाने में सहायक हो।

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 3 औसत: 4.7)

    इस पुस्तक के लेखक

    डॉ० लक्ष्मी नारायण धूत / Dr. Laxmi Narayan Dhoot

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 3 औसत: 4.7)
    Copy link
    Powered by Social Snap