Madhushala – मधुशाला – Hindi [PDF] – madhushala Pdf Download

मधुशाला हिंदी के प्रसिद्ध कवि और लेखक हरिवंश राय बच्चन(1907-2003) का अनुपम कविता संग्रह है। इस कविता संग्रह में एक सौ पैंतीस रूबाइयां यानी चार पंक्तियों वाली कविताएं हैं. मधुशाला बीसवीं सदी की शुरुआत के हिदी साहित्य की अत्यंत महत्वपूर्ण रचना है, जिसमें सूफीवाद का दर्शन होता है।  

मधुशाला हिंदी के प्रसिद्ध कवि हरिवंश राय बच्चन की प्रसिद्ध कविता है। मधुशाला सर्वप्रथम 1935 में प्रकाशित हुई थी। मधुशाला बहुत जल्द ही इतनी प्रसिद्ध हो गई हर साल उसके दो तीन संस्करण छपते गए।

यह कविता आज भी प्रासंगिक है। इसमें जीवन की तमाम परेशानियों को दिखाया गया है। यह उमर खय्याम की रुबाइयां से प्रेरित है। हरिवंश राय बच्चन हिंदी काव्य प्रेमियों के प्रिय कवि रहे। उनकी कविता मधुकलश, प्रणय-पत्रिका, निशा निमंत्रण, खादी के फूल, दो चट्टानें बहुत अधिक प्रसिद्ध हुई।

मधुशाला पोयम प्रसिद्ध कवि हरिवंश राय बच्चन जी ने लिखी है। उनकी तमाम कविताओं में मधुशाला बेहद लोकप्रिय हुई और उस बिक्री के सारे रिकार्ड इस कविता ने तोड़ दिया। इसमें 135 रुबाइयां दी गई है जो जिंदगी के हर पहलु को किताब की तरह उकेर देती है।

इसमें हरिवंश राय बच्चन जी ने मधुशाला के माध्यम से जिंदगी के हर पहलु छुआ है। कभी जिंदगी की निरसता तो कभी खुशियों से लबालब जिंदगी को कवि ने इस कविता में बड़ी ही खूबसूरती से उकेरा है। आपको यह कविता जरूर पढ़नी चाहिए और इसके कुछ अंश  हम नीचे आपको दे रहे है और ऊपर की लिंक से आप मधुशाला की फ्री डाऊनलोड कर सकते है।

Leave a Comment