जीत या हार रहो तैयार / Jeet ya Haar Raho Tayyar by Ujjwal Patni Download Hindi PDF

पुस्तक नाम : जीत या हार रहो तैयार / Jeet ya Haar Raho Tayyar
Book Language : हिंदी | Hindi
पुस्तक का साइज़ : 3.51 MB
  • कुल पृष्ठ : 191

  • प्रेरक और पुस्तक

    दोनों का कोई मोल नहीं
    ढेरों व्यक्तित्व विकास और जीवन प्रबंध की पुस्तकें पढ़-पढ़कर लोगों को अब ये केवल किताबी बातें लगती है । उन्हें लगता है कि ऐसी पुस्तकों से किसी को कुछ हासिल नहीं होता, कोरी फिलॉसफी है ये । इन पुस्तकों के अधिकांश सिद्धान्त ऐसे होते है, जिनका वास्तविक जीवन में कोई मोल नहीं होता।
    बुद्धिमान लोग यह भी कहते है, कि प्रकाशक किताबें बेचकर कमाता है, लेखक रॉयल्टी से कमाता है और ज्ञान की दुकान चलती रहती है ।
    मैं शत प्रतिशत आपसे सहमत हूँ कि कोई भी प्रेरक किसी की जिंदगी नहीं बदल सकता । कोई भी किताब किसी की उलझन नहीं सुलझा सकती । कोई भी सारपूर्ण कहानी किसी को राह नहीं दिखा सकती । कोई भी सलाह किसी की गलत आदत नहीं सुधार सकती और कोई भी सिर्फ किताब पढ़कर आज तक करोड़पति नहीं हुआ क्योंकि सबसे महत्त्वपूर्ण उस पुस्तक को पढ़ने वाला व्यक्ति है । यदि पाठक बदलना नहीं चाहता, अपनी कमजोरियों और असफलता के साथ बीना चाहता है, तो प्रेरक और पुस्तक, दोनों का कोई मोल नहीं ।
    यदि पाठक अपनी समस्या नहीं सुलझाना चाहता, तकलीफ में जीना चाहता है, मुश्किलों में और गहरे फंसना चाहता है तो आखिर किताब क्या कर सकती है ।

    इस पुस्तक के लेखक

    डॉ. उज्जवल पाटनी / Dr. Ujjwal Patni
    + लेखक की अन्य किताबें

    डॉ. उज्जवल पाटनी एक अंतर्राष्ट्रीय लेखक, प्रेरक वक्ता, कॉर्पोरेट ट्रेनर, नेतृत्व कोच और प्रबंधन सलाहकार हैं। उनकी 7 प्रेरक पुस्तकें 12 भारतीय भाषाओं और दो विदेशी भाषाओं में जारी की गई हैं। 18 देशों में उनकी पुस्तकों की 1 मिलियन से अधिक प्रतियां बिक चुकी हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Copy link
    Powered by Social Snap