चंद्रकांता | Chandrakanta PDF Download Free Hindi by Devaki Nandan Khatri

चंद्रकांता / Chandrakanta PDF, चंद्रकांता / Chandrakanta PDF Download, चंद्रकांता / Chandrakanta Book, चंद्रकांता / Chandrakanta epub download ,चंद्रकांता / Chandrakanta in Hindi PDF Download , चंद्रकांता / Chandrakanta किताब डाउनलोड करें, चंद्रकांता / Chandrakanta Kitab Download kro, चंद्रकांता / Chandrakanta Read Online in Hindi Free, चंद्रकांता / Chandrakanta Book Download Free, चंद्रकांता / Chandrakanta Book by

चंद्रकान्ता हिन्दी के शुरुआती उपन्यासों में है जिसके लेखक देवकीनन्दन खत्री हैं। सबसे पहले इसका प्रकाशन सन 1888 में हुआ था। यह लेखक का पहला उपन्यास था। यह उपन्यास अत्यधिक लोकप्रिय हुआ था और तब इसे पढ़ने के लिये बहुत लोगों ने देवनागरी/हिन्दी भाषा सीखी थी। यह तिलिस्म और ऐयारी पर आधारित है और इसका नाम नायिका के नाम पर रखा गया है।

चन्द्रकान्ता को एक प्रेम कथा कहा जा सकता है। इस शुद्ध लौकिक प्रेम कहानी को, दो दुश्मन राजघरानों, नवगढ और विजयगढ के बीच, प्रेम और घृणा का विरोधाभास आगे बढ़ाता है। विजयगढ की राजकुमारी चंद्रकांता और नवगढ के राजकुमार वीरेन्द्र विक्रम को आपस में प्रेम है। लेकिन राज परिवारों में दुश्मनी है। दुश्मनी का कारण है कि विजयगढ़ के महाराज नवगढ़ के राजा को अपने भाई की हत्या का जिम्मेदार मानते है। हालांकि इसका जिम्मेदार विजयगढ़ का महामंत्री क्रूर सिंह है, जो चंद्रकांता से शादी करने और विजयगढ़ का महाराज बनने का सपना देख रहा है। राजकुमारी चंद्रकांता और राजकुमार विरेन्द्र विक्रम की प्रमुख कथा के साथ साथ ऐयार तेजसिंह तथा ऐयारा चपला की प्रेम कहानी भी चलती रहती है। कथा का अंत नौगढ़ के राजा सुरेन्द्र सिंह के पुत्र वीरेन्द्र सिंह तथा विजयगढ़ के राजा जयसिंह की पुत्री चन्द्रकांता के परिणय से होता है।

चंद्रकांता संतति PDF Download
चंद्रकांता PDF Download
चंद्रकांता उपन्यास की समीक्षा
चंद्रकांता पहला अध्याय

chandrakanta full novel in hindi pdf download

Read and download Devaki Nandan Khatri’s book Chandrakanta: चन्द्रकांता in PDF, EPub, Mobi, Kindle online. Free book Chandrakanta: चन्द्रकांता by Devaki Nandan Khatri.

Leave a Comment