ब्लू स्टार – अस्सी के दशक का भारत / Blue Star – Assi Ke Dashak Ka Bharat

पुस्तक नाम : ब्लू स्टार - अस्सी के दशक का भारत / Blue Star - Assi Ke Dashak Ka Bharat
Book Language : हिंदी | Hindi
पुस्तक का साइज़ : 3.2 MB
  • कुल पृष्ठ : 57

  • 1984 में कुछ ऐसा हुआ जिसने देश को टूटने के कगार पर ला दिया। 

    सिख समुदाय और सम्पूर्ण भारत के पवित्र स्थल स्वर्ण मंदिर में भारतीय सेना के प्रवेश और उसके कारण देश के भविष्य में कभी भी उत्पन्न ना हो, इसके लिए इस इतिहास को जानना आवश्यक है। ऑपरेशन ब्लू स्टार जैसा ऑपरेशन एक अंतिम विकल्प था या ऐसे हालात बनाए गए? क्या सियासी पैंतरों की बलि देश के नागरिक और हमारे सांस्कृतिक स्थल चढ़ गए? क्या यह पंजाब के हृदय में सदा के लिए एक ज़ख़्म दे गया? क्या यह कांग्रेस पार्टी पर एक धब्बा बन कर रह गया? क्या यह भारत में पहली बार एक प्रधानमंत्री की हत्या का कारण बना? क्या यह देश के भिन्न भिन्न क्षेत्रों में एक साथ पनप रहे अलगाववाद का हिस्सा थी? क्या इसमें 1971 के युद्ध से बिखरे पाकिस्तान की साज़िश थी? आख़िर क्या और क्यों था ऑपरेशन ब्लू स्टार?

    बोंज़ुरी बाइट्स Bonzuri Bytes प्रस्तुत करता है 'गांधी परिवार' के बाद Lotus Series की अगली पेशकश।

    मुख्य अंश 

    ★ सिखों का इतिहास Sikh History

    ★ ख़ालिस्तान Khalistaan

    ★पंजाब सूबा Punjab Suba

    ★अकाली दल आंदोलन Akali Dal Movement

    ★बादल, लोंगोवाल और तोहरा Badal, Longowal and Tohra

    ★जरनैल सिंह भिंडरावाले Jarnail Singh Bhindrawale

    ★ज्ञानी जैल सिंह Gyani Jail Singh

    ★ऑपरेशन ब्लू स्टार Operation Blue Star

    ★स्वर्ण मंदिर Golden Temple

    ★अकाल तख्त Akaal Takht

    रुकिए! Download करने के लिए आगे बढ़ने से पहले इसे जरूर पढ़ें ताकि आपको Download करने में कोई समस्या न हो
    ➡️ लिंक
    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 0 औसत: 0)

    इस पुस्तक के लेखक

    प्रवीण कुमार झा / Praveen Kumar Jha
    + लेखक की अन्य किताबें

    डॉ. प्रवीण झा एक सफल सुपरस्पेशलिस्ट डॉक्टर होने के अलावा एक उत्साही व्यंग्यभाषी ब्लॉगर हैं। उनका उपनाम 'वामनगढ़ी' है और उन्होंने कई छोटे हिंदी ब्लॉगों को प्रकाशित किया है, जिसे काफी सराहा गया है। लेखक ने अपना बचपन बिहार में बिताया, और पुणे, नई दिल्ली, बैंगलोर और शिकागो जैसे शहरों में अपने चिकित्सा कैरियर के माध्यम से रवाना हुए। वर्तमान में, लेखक कोंग्सबर्ग, नॉर्वे में रहता है। लेखन के प्रति लेखक की लगन हिंदी में उनकी पहली काल्पनिक पुस्तक- चमनलाल की डायरी के कारण बनी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 0 औसत: 0)
    Copy link
    Powered by Social Snap