Home उपन्यास / Upnyas-Novel भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me...

भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger in Hindi by Novoneel Chakraborty

पुस्तक नाम : भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger
Book Language : हिंदी | Hindi
पुस्तक का साइज़ : 4.53 MB
  • कुल पृष्ठ : 185

  • भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger PDF, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger PDF Download, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger Book, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger epub download ,भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger in Hindi PDF Download , भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger किताब डाउनलोड करें, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger Kitab Download kro, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger Read Online in Hindi Free, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger Book Download Free, भूल न जाना, अज़नबी / Bhool Na Jana, Ajnabi / Forget me not, Stranger Book by   नोवोनिल चक्रवर्ती / Novoneel Chakraborty  

    क्या आप एक महाकाव्य सस्पेंस कहानी के लिए तैयार हैं?

    वास्तव में, अब आप नोवोनेल चक्रवर्ती की इस रिवेटिंग किताब के साथ आंतरिक सस्पेंस स्टोरी क्रेविंग का आभार व्यक्त कर सकते हैं। लेखक ने एक नाखून काटने वाली कहानी को नीचे उतारा है जो त्रयी का एक हिस्सा है, ‘स्ट्रेंजर’। त्रयी में यह तीसरी और अंतिम पुस्तक, ‘भूल न जाना, अज़नबी‘ एक ऐसी पुस्तक है जो मुख्य चरित्र रिवाना के जीवन पर प्रकाश डालती है क्योंकि आप अपनी सीट के किनारे से रहस्यों को उजागर करते हैं।

    इस कड़ी की पहली और दूसरी किताब डाउनलोड करें –

    1. कौन हो तुम, अजनबी / Kaun Ho Tum, Ajnabi / Marry Me, Stranger in Hindi by Novoneel Chakraborty

    2. साथ रहना, अज़नबी / Sath Rehana, Ajnabi / All Yours, Stranger in Hindi by Novoneel Chakraborty

    रिवाना एक ऐसे व्यक्ति द्वारा पीछा किया जा रहा है जो उसके लिए अज्ञात है। उसे शक है कि यह एक भूत है, एक व्यक्ति है, एक दोस्त है, या यह सिर्फ एक पागल मतिभ्रम है? अपनी खुद की सुरक्षा से डरकर, वह इस तथ्य के कारण पीड़ा महसूस कर रही है कि पहचान अज्ञात है।

    रिवाना के साथ रास्ता बनाओ क्योंकि वह उसके जीवन के बारे में सोचती है

    रिवाना का प्रेम-जीवन बिखरा हुआ है जो कुछ भी है लेकिन स्थिर नहीं है। रिवाना अपने माता-पिता से दूर एक बड़े शहर में रह रही है। वह किसी भी अन्य विशिष्ट लड़की की तरह स्वभाव से हानिरहित है। लेकिन उसका पूरा जीवन तब से उल्टा हो गया है, जब वह एक रहस्यमय आदमी द्वारा पीछा किया जा रहा है, जिसकी पहचान छिपी हुई है। वह अपने जीवन के कई पहलुओं पर बारीकी से विचार करती है और अपने सवालों के जवाब पाती है।

    रिवाना के सवालों के जवाब तलाशे और सस्पेंस में गहरी खुदाई कीरिवाना आखिरकार उसके कई भयावह सवालों के जवाब जान जाएगी। वह पूछती है, “वह कौन सी ताकत है जो उसे मृत हिया से बांधती है?” इसके अलावा, सबसे महत्वपूर्ण सवाल अभी भी बना हुआ है, ‘कौन अजनबी है और वह उसका पीछा क्यों कर रहा है?’ पुस्तक में सभी उत्तर हैं।

    जवाब एक गहन और रहस्यमय चरमोत्कर्ष को प्रकाश में लाएंगे जो निश्चित रूप से आपकी सांस लेने वाला है।

    ‘सुन, तुझे आंटी को वापस फ़ोन कर लेना चाहिए। वो तीन बार फ़ोन कर चुकी हैं, जैसे ही
    रिवाना नहाकर निकली, इशिता ने कहा।
    ‘मुझे समझ नहीं आता कि मम्मा कोलकाता में भी मेरे बारे में इतनी फिक्र क्यों करती रहती हैं। मैं
    अपने ही शहर में हूं यार,’ रिवाना ने कहा और अपना फ़ोन उठा लिया। जब से तो हिया के घर
    आगरपाड़ा से, इशिता के यहां पीजी लौटी थी, उसकी तबियत खराब लग रही थी। उसे अपने पेट
    में डर का गुबार उठता हुआ सा महसूस हो रहा था। क्या अजनबी उसे मार डालेगा? क्या वो एक
    सीरियल किलर था?
    इशिता ने रिवाना से बार-बार कुछ खाने के लिए कहा, लेकिन उसका खाने का मन ही
    नहीं हो रहा था। उसने सोने की कोशिश भी की, लेकिन इस डर से सो नहीं पाई कि कहीं
    अजनबी उसके ठीक सामने आकर उसे मार न दे। ठीक वैसे ही जैसे उसने हिया चौधुरी को भी
    खुद को मार डालने के लिए बेबस कर दिया होगा, उसने सोचा। इशिता ने उसे गर्म पानी से
    नहाने की सलाह दी ताकि उसको थोड़ी राहत मिल सके। नहा लेने के बाद वाकई रिवाना को
    थोड़ा बेहतर महसूस हो रहा था।
    ‘हैलो, मम्मा, क्या हुआ?’ उसने अपनी मां को वापस फोन किया।
    ‘मिनी, घर वापस आओ। अभी!’ उसकी मां की आवाज़ डरी हुई लग रही थी।
    रिवाना के दिल की धड़कन रुक गई। ज़रूर कुछ न कुछ बुरा हुआ होगा।
    ‘क्या हुआ, गग्गा?’ रिवाना के मुंह से भी डरी हुई आवाज़ निकली।
    एक लम्हे के लिए कोई जवाब नहीं आया और फिर उसकी मां ने आराम से कहा, ‘कुछ
    नहीं। मुझे बस अकेला महसूस हो रहा है। घर आ जाओ, मिनी!’
    ये अजीब बात थी क्योंकि अब अचानक उसकी मां की आवाज़ सुनकर ऐसा लग रहा था
    जैसे कि सबकुछ ठीक था। ‘तुमने मुझे डरा दिया, मम्मा। खैर, मैं घर आ रही हूं।

    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 1 औसत: 5)
    नोवोनिल चक्रवर्ती / Novoneel Chakraborty
    नोवोनिल चक्रवर्ती सात रोमांस थ्रिलर के सर्वश्रेष्ठ लेखक हैं। मैरी मी, स्ट्रेंजर बेहद लोकप्रिय स्ट्रेंजर ट्रायोलॉजी में पहला है। वह भारतीय फिल्मों और टेलीविज़न उद्योग में काम करते हैं, चैनल वी के लिए मिलियन डॉलर गर्ल, ट्विस्ट वाला लव और सीक्रेट डायरी जैसे लोकप्रिय टेलीविजन शो में काम करते हैं। वह मुंबई में रहते हैं।
    RELATED ARTICLES

    दहशतगर्दी | DahshatGardi PDF Download Free by Surender Mohan Pathak

    एक ऐसा षड़यंत्र जिसकी नींव विदेश में रखी गयी । जिसकी चपेट में भारत को लाने के लिए एक खतरनाक आतंकवादी, आर्म्स...

    लम्बे हाथ | Lambe Haath Hindi PDF Download Free by Surender Mohan Pathak

    हर मुजरिम यही समझता है कि वो नहीं पकड़ा जाने वाला, जो पकड़े गए थे वो नादान थे ! लेकिन कानून से...

    जीने की सजा | Jeene Ki Saja Hindi PDF Download Free by Surender Mohan Pathak

    उस रात कोकिला ने घर में घुस आये एक चोर पर गोली चला दी । जब उसने मृत चोर की सूरत देखी...

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    औघड़ | Aughad

    पुस्तक का अंश : गर्मी जा चुकी थी, ठंड अपना...

    Rich Dad Poor Dad Hindi PDF Download Free by Robert Kiyosaki | रिच डैड पुअर डैड PDF

    यह बेस्टसेलिंग पुस्तक सरल भाषा में सिखाती है कि पैसे की सच्चाई क्या है और अमीर कैसे बना...

    [PDF] 12th Fail PDF Download in Hindi Free by Anurag Pathak | ट्वेल्थ फेल | Twelfth Fail PDF

    ट्वेल्थ फेल सच्ची कहानी और वास्तविक घटनाओं पर आधारित एक ऐसा उपन्यास है जिसने हिंदी साहित्य जगत में...

    बनारस टॉकीज / Banaras Talkies by Satya Vyas Download Free PDF

    पुस्तक का अंश : दर्शकों के समक्ष भरोसा हासिल करना
    यहाँ क्लिक कर किताब को रेट करें!
    (कुल: 1 औसत: 5)
    Copy link
    Powered by Social Snap