आपके अवचेतन मन की शक्ति | AAPKE AVCHETAN MAN KI SHAKTI | THE POWER OF YOUR SUBCONSCIOUS MIND BY DR. JOSEPH MURPHY HINDI PDF BOOK DOWNLOAD

0 3,392

मनुष्य दुखी क्यों होता है? दूसरा खुश क्यों होता है? एक मनुष्य सुखी और समृद्ध क्यों होता है? दूसरा गरीब और दुखी क्यों होता है? एक मनुष्य भयभीत और तनावग्रस्त क्यों होता है? दूसरा आस्थावान तथा आत्मविश्वासी क्यों होता है? एक मनुष्य के पास सुंदर, आलीशान बंगला क्यों होता है? दूसरा झोपड़ी में क्यों रहता है? एक मनुष्य बहुत सफल और दूसरा बुरी तरह असफल क्यों होता है? क्या आपके चेतन और अवचेतन मन में इन प्रश्नों का कोई उत्तर मिल सकता है? निश्चित रूप से मिल सकता है । इस पुस्तक का अध्ययन करने और इसमें बताई तकनीक को अमल में लाने से आप उस चमत्कारिक शक्ति को जान लेंगे, जो आपको दुविधा, दुख, उदासी और असफ्रफ़लता के कुचक्र से बाहर निकलने में मदद करेगी। यह चमत्कारिक शक्ति आपको मंजिल तक पहुँचने में मदद देगी, आपकी समस्याएँ सुलझाएगी, आपको मानसिक और शारीरिक बेड़ियों से स्वतंत्र करेगी। यह आपको पुनः स्वस्थ, उत्साही और शक्तिशाली बना सकती है। जब आप अपनी आंतरिक शक्तियों का प्रयोग करना सीख लेंगे, तो आप भय की कैद से स्वतंत्र हो जाएँगे और सुखमय जीवन का आनंद लेंगे। यह पुस्तक मस्तिष्क की आधारभूत सच्चाइयों को आसान भाषा में समझाने की कोशिश है। जीवन और मस्तिष्क के आधारभूत नियमों को रोजमर्रा की सरल भाषा में समझाना पूरी तरह संभव है।

पुस्तक का अंश :

आपके भीतर बहुत बड़ा खज़ाना है

आपके भीतर बहुत बड़ा खज़ाना है उसे हासिल करने के लिए आपको बस अपने मन की आँखें खोलकर उसे देखना भर है। आपके भीतर नियामतों का अथाह भंडार है, जिसमें से आप सुखद, समृद्ध और आनंदमयी जीवन जीने के लिए ज़रूरी हर चीज़ निकाल सकते हैं।आ पर्वकई लोग अपनी संभावना को इसलिए नहीं जान पाते हैं, क्योंकि उन्हें अपने भीतर मौजूद असीमित ज्ञान और अनंत प्रेम के भंडार का पता ही नहीं होता है। जबकि सच तो यह है कि इसमें से आप अपनी हर मनचाही चीज़ निकाल सकते हैं।लोहे का चुंबकीय टुकड़ा अपने भार से बारह गुना अधिक वजन उठा सकता है। लेकिन अगर आप उसके चुंबकीय गुण को हटा दें, तो यह एक पंख भी नहीं उठा पाएगा।इसी तरह लोग भी दो तरह के होते हैं। एक वे, जो चुंबकीय होते हैं! वे आत्मविश्वास और आस्था से भरे होते हैं। वे जानते हैं कि वे सफल होने तथा जीतने के लिए पैदा हुए हैं।दूसरी तरह के लोग वे होते हैं, जिनमें चुंबकीय गुण नहीं होता है। वे बहुत बड़ी तादाद में होते हैं। वे डरों और शंकाओं से भरे होते हैं। अवसर सामने आने पर वे कहते हैं, “अगर मैं सफल नहीं हुआ, तो क्या होगा ? कहीं मेरा पैसा न डूब जाए लोग मेरी हँसी उड़ाएँगे।” इस तरह के लोग जिंदगी में ज़्यादा आगे तक नहीं जा पाते हैं। उनका डर उन्हें उसी जगह पर रोके रखता है, जहाँ वे हैं।आप चुंबकीय व्यक्ति बन सकते हैं, बशर्ते आप इतिहास के सबसे बड़े रहस्य को समझ लें और उस पर अमल करने लगें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.